Thursday, 16 February 2017

{Latest*} {TOP*10} Abhishek Shivling From Benefit And More Story.

 {Latest*} {TOP*10} What equipment is anointed ones from Benefit.

And More Shiv Story

Very Rare Collection Of Other Website 

शिवरात्रि - जानें फल से क्या उपकरण अभिषेक वाले


आप भगवान शिव का अभिषेक करना चाहिए। दिन के इंटीरियर में कुछ खास है। सोमवार 7 मार्च को  महाशिवरात्रि पर्व। भगवान शिव उनके पक्ष में हमेशा के लिए होना अभिषेक किया जाता है और इच्छाओं को पूरा कर रहे हैं। दूसरे पैराग्राफ के अनुसार कोई विशेष फल   धर्मसिन्धु एक विशेष प्रतीक में भगवान की पूजा करने की इच्छा है।










राशि अनुसार महाशिवरात्रि को करे शिव की आराधना, रूठी हुई किस्मत जाग जाएगी

आज आप को बता दे की संतों का मानना है की भोलेनाथ अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं शीघ्र पूर्ण करते है वैसे तो भक्तों की श्रद्धा अनुसार भोलेनाथ उन्हें फल देते है एक बात और शिवजी को अधिक प्रसन्न करने के लिए महाशिवरात्रि का त्यौहार आ रहा है,जो की इस वर्ष 24 फ़रवरी 2017 को है पर भगवान शिव की पूजा अर्चना बेहद आसान है और शांत मन के साथ की जा सकती है एक बात जिसके फलस्वरूप जीवन में सुख-शांति मिलती है साथ ही साथ आज जानिये महाशिवरात्रि के दिन अपनी राशि अनुसार कैसे करें शिव आराधना

मेष:- आप को बता दे की जिन लोगों की राशि मेष है और वो गुलाल से शिवजी की पूजा करें साथ में शिवरात्रि के दिन “ॐ ममलेश्वाराय नमः” मंत्र का जाप करें

वृषभ:-  इस राशि के लोग दूध से शिवजी का अभिषेक करें और ॐ नागेश्वराय नमः मंत्र का जाप करें

मिथुन:- आप को ये भी बता दे की मिथुन राशि वाले लोग गन्ने से शिवजी का अभिषेक करें और ॐ भुतेश्वराय नमः मंत्र का जाप करें

..कर्क:- इस राशि के लोग पंचामृत से शिवजी का अभिषेक करें ,महादेव के द्वादश नाम का स्मरण करें

सिंह:- और इस राशि के लोग शहद से शिवजी का अभिषेक करें और ॐ नमः शिवाय” मंत्र का जाप करें

कन्या:- इस राशि के लोग शुद्ध जल से शिवजी का अभिषेक करें और शिव चालीसा का पाठ करें

तुला:- इस राशि के लोग दही से शिवजी का अभिषेक करें और शांति से शिवाष्टक का पाठ करें

वृशिचक:- इस राशि के लोग दूध और घी से शिवजी का अभिषेक करें और ॐ अन्गारेश्वराय नमः मंत्र का जाप करें

धनु:- इस राशि के लोग दूध से शिवजी का अभिषेक करें और ॐ समेश्वरायनमः मंत्र का जाप करें

मकर:- इस राशि के जातक अनार से शिवजी का अभिषेक करें और शिव सहस्त्रनाम का उच्चारण करें

कुम्भ:- इस राशि के लोग दूध, दही, शक्कर, घी, शहद सभी से अलग अलग शिवजी का अभिषेक करें और ॐ शिवाय नमः मंत्र का जाप करें

मीन:- इस राशि के लोग ऋतुफल(जो मौसम का ख़ास फल हों) से शिवजी का अभिषेक करें और ॐ भामेश्वराय नमः मंत्र का जाप करें 🙏🏻🌺ॐ नमः शिवाय🙏🏻🌺



















- अभिषेक दलिया के बने शिवलिंग रोगों से छूट दी गई है।
- अभिषेक शिवलिंग मक्खन से बने करके खुशी की खोज में हैं।
- अभिषेक शिवलिंग रखकर गोल  थी  खाद्यान्न खरीद बना है '



शिवरात्रि हर महीने आता है, लेकिन केवल एक वर्ष में एक बार महाशिवरात्रि

शिवरात्रि महीना है। लेकिन यह केवल एक बार एक वर्ष महाशिवरात्रि आता है।

विश्व प्रसिद्ध धरोहर हिरण शिकारी और महा शिवरात्रि के त्योहार के साथ मान्यता दी। मैं भी हिरण और शिकारी पापमुक्तिमा  परम सुख कल्याणभाव  भगवान शिव के एक परिवार में देखा था।

रसातल की मूल नींव, लेकिन इसे नीचे और ऊपर ब्रह्मांड से नहीं हो रही थी। भगवान विष्णु वापस ब्रह्मांड के रसातल में चला गया। लेकिन नहीं शेयर लिंग में। जब भगवान ब्रह्मा नहीं किया था, लेकिन कुल मिलाकर यह ब्रह्मांड के लिए उठ गया था। हालांकि, वे यह गलत लिंग नींव की बात की थी।

उन्होंने कहा कि भगवान शिव अग्निस्तंभ (लिंग ब्रह्मा को दंडित करने के लिए), जो पांचवें स्लाइस झूठ काट ब्रह्मा के मुँह यह चेहरे ने कहा था से उछला। जब भगवान ब्रह्मा, भगवान विष्णु और भगवान शिव   पूजन

सभी दिन और रात का सबसे अच्छा दिन महा उसके नाम पर विचार किया जा रहा है। इस प्रकार आराधना और शिव महा शिवरात्रि महोत्सव की पूजा शिव  भक्तो के लिए एक दावत है।

जीव और शिव महारात्रि के माध्यम से महा योग है। भगवान शिव अभूतपूर्व महिमा और अनेरो है। सात्विक सहज पूजा भगवान शिव महाप्रलयकारी  होने की कृपा है। ब्रह्मांड के प्राणियों के एकीकरण।

ईविल, शातिर विद्रोही मारक में। सत्य, आत्म नियंत्रण, सात्विक  तारांकन। संहारक दानव सेना। शंख, ड्रम, त्रिशूल धारक। भूतनाथ ,भैरवादि रुद्रो ना  पति और साधु-टाइमर प्रभु और मिलनसार डर लगता है।

भगवान गर्व अतिमान  शंकर  का अनुमोदन नहीं करता। रावण तैंतीस करोड़ देवताओं जो तीन इच्छाओं को नियंत्रित कर भगवान शिव के गौरव के कारण पूरा नहीं किया गया।

'शांति  शतक  ना  रेचिता भृतुहरि नि  लिया भगवान शिव परीक्षण नहीं किया। राजा भृतुहरि  त्यागी ने एक फकीर बन गया। एक संत, बातें एक को त्याग करता है में से एक था। लेकिन सिद्धियों गर्व के बीच दूर शिव जब तक जब तक बने रहे।



सोमवार, 7 मार्च को महाशिवरात्रि की पूर्व संध्या पर एक विशेष अवसर है और यह भी सोमवार को अभूतपूर्व संयोग बन गया है।


महा रुद्र शिवलिंगो की दावत दिन पृथ्वी के सभी भाग रहे हैं। अधिष्ठाना महादेव शिव सब बुराई ग्रहों का नाश होता है। माँ महालक्ष्मी महादेव अधिष्ठाना  तो भी ऐ  ऐश्वर्य महाशिवरात्रि  दिनों के साथ।

दारिद्र  जन्म ग्रहों दूर शिवरात्रि ये शिवपूजन थी  योग कर रहे हैं। सभी दावत दिनों देव महादेव कैलाश पहुंच है। इसलिए इस दिन पर महारुद्र  होमात्मक पाठ सोमयग्न  फल देता है।

इस प्रकार महा शिवरात्रि महोत्सव में भगवान शिव भक्तों के लिए अनेरु और अदकेरू  महात्म्य है। हर हर महादेव ध्वनि भर में उत्पन्न होने वाले जीवंत शिवालयों ...

जय भोलेनाथ .... जय हो प्रभु ...

आप दुनिया में खड़े हैं ... "

Christmas Greetings Cards wallpaper  ➤ ➤  Click Here



0 comments:

Post a Comment